Chandra Shekhar Choudhary is on Facebook.
To connect with Chandra, sign up for Facebook today.
Work
  • Digital Marketing ExpertFebruary 19, 2018 to presentJaipur, Rajasthan
  • Digital Marketing ExpertSeptember 1, 2012 to February 9, 2018Jaipur, Rajasthan
    Expert Digital Marketer.
Education
Current City and Hometown
About Chandra
  • about me:
    iहमसे रौशन हैं चाँद और तारे,
    हम को दामन समझिये न ग़ैरत का!
    most touching lines........
    dere are times when v have to stop loving someone not
    bcoz v start hat

    about me:
    iहमसे रौशन हैं चाँद और तारे,
    हम को दामन समझिये न ग़ैरत का!
    उठ गये हम गर ज़माने से,
    नाम मिट जायेगा मुहब्बत का!
    दिल है नाज़ुक कली से फूलों से,
    यह न टूटे ख़याल रखियेगा!
    और अगर आप से यह टूट गया,
    जान-ए-जां इतना ही समझीयेगा!
    क्या?
    फिर कोई बाँवरी मुहब्बत की,
    अपनी ज़ुल्फ़ें नहीं सँवारेगी!
    आरती फिर किसी कन्हैया की,
    कोई राधा नहीं उतारेगी!

    most touching lines........
    dere are times when v have to stop loving someone not
    bcoz v start hating them but bcoz v realise that they would be much happier if v let them go...........

    दर्द की हद से गुज़रना तो अभी बाकी है,
    टूट कर मेरा बिखरना तो अभी बाकी है!
    पास आके मेरा दुःख-दर्द बांटने वाले,
    मुझसे कतरा के तेरा गुज़रना तो अभी बाकी है!
    चंद शेरो मैं कहाँ ढलती है एहसास की आग,
    गम का ये रंग निखरना तो अभी बाकी है!
    रंग-ऐ- रुसवाई सही शहर की दीवारों पर,
    'shekhar' नाम तेरा उभरना तो अभी बाकी है!
Favorite Quotes
  • No favorite quotes to show

Favorites